आईए बात करते हैं कि निडर होकर अपनी बात कैसे कहे (How to speak boldly)। अपनी बात को कह पाना भी बहुत ही मुश्किल काम हैं, अक्सर हम सब को कही ना कही बहुत सी बातें पसंद नहीं होती हैं, पर हम चाहकर भी कुछ नहीं कह पाते हैं, फिर चाहे घर हो, पड़ोस हो, रिश्तेदार हो, या फिर ऑफिस ही क्यों ना हो।

निडर कौन हैं ?

निडर वो हैं जिसे कोई भय ना हो, कोई डर ना हो, कोई शंका ना हो इत्यादि। वैसे तो जीवन में हर किसी को कोई ना कोई डर जरूर होता है, पर यदि आप थोड़ा मनन और चिंतन करेंगे तो आप अपनी लाइफ को साहस के साथ जी सकते हैं। आज के समय में जो निडर हैं वही सफल हैं, क्योंकि जो निडर हैं, वही मेहनत करते हैं, बाकी तो किस्मत का रोना ही रोते रहते हैं।

निडरता से बात कहना क्यों जरुरी हैं?

निडरता से बात करना इसलिए जरुरी है क्योंकि जहा आपने बोलना बंद किया वही से लोग आपका नाजायज फायदा उठाने लगेंगे, क्योंकि आप भी उन्ही लोगो को ज्यादा काम देते होंगे जो आपको मना ना करे। ये प्रॉब्लम एक जगह नहीं हैं, घर में, बाहर में हैं, रिलेशन में हैं और ऑफिस में भी हैं। एक उदाहरण से समझिये एक ही ऑफिस में काम करने वाले सभी कर्मचारियों का वेतन तो एक हो सकता हैं, पर उनका काम कम और ज्यादा हो सकता हैं, इसके पीछे वही कारण हैं जो कर्मठ हैं, ईमानदार हैं, उनके पास सदैव काम रहता हैं और जो मक्कार हैं, आलसी हैं, वह हमेशा काम को मना करते रहते हैं।

यहाँ निडरता उन लोगो के लिए जरुरी हैं जो चाहकर भी काम को मना नहीं कर पाते हैं, जो अंदर ही अंदर सोचते तो बहुत कुछ हैं, पर सामने कुछ भी कहने की हिम्मत नहीं होती हैं।

जो लोग जितने ज्यादा निडर होते हैं, वह अपनी लाइफ में उतने ही सफल होते हैं क्योंकि ऐसे लोग सदैव अपनी सफलता के बारे में सोचते हैं, दूसरा व्यक्ति क्या कर रहा हैं उससे उन्हें कोई मतलब नहीं होता हैं।

निडर होने का एक ये भी फायदा हैं की जल्दी कोई भी आपके पीछे नहीं पड़ेगा क्योंकि सामने वाले को पता हैं की आपसे बेकार में उलझना महंगा पड़ सकता हैं।

निडरता से बात करने के कुछ उपाय

अपने आप पर भरोसा रखे

आप जो चाहे वह पा सकते हैं, आप अपनी जिंदगी के मालिक हैं, और आप अपने अनुसार इसे बना सकते हैं। दूसरों से उमीदें ना रख कर खुद से करना सीखे क्योंकि जो जितना सीखेगा वह उतना ही लाइफ में आगे बढ़ेगा।

सदा सत्य बोले

जो लोग सच बोलते हैं, वह निडर होते हैं, क्योंकि डर तो उनको होगा जो झूठ बोल रहा हो इसलिए लाइफ में चाहे जैसी सिचुएशन हो कभी झूठ का सहारा ना ले क्योंकि एक बार यदि आपने झूठ का सहारा लेना शुरू किया तो ये सिलसिला बहुत लम्बा चलेगा और इसके बहुत ही बुरे परिणाम होने की भी सम्भावना बढ़ जाती हैं।

किसी का बुरा ना करे

किसी के लिए गड्ढा ना खोदे, क्योंकि जो लोग दूसरों का बुरा चाहते हैं वह डरपोक होते हैं। ऐसे लोग ऊपर से बहुत अच्छा बनने का नाटक तो इतना अच्छा करेंगे की आपके लिए उनको समझना बहुत ही कठिन होगा पर एक बात ये बिलकुल सही हैं की जो वास्तव में जैसा हैं उसकी असलियत एक ना एक दिन दुनिया के सामने आ ही जाएंगी।

दूसरों का सम्मान करे

जो कोई व्यक्ति सबका सम्मान करता हैं, वह निडर होता हैं क्योंकि उसे पता हैं की उसने जीवन में सबको क्या दिया हैं। जब आप किसी के लिए अपमान शब्दों का प्रयोग नहीं करेंगे तो आप अपने आप को निडर पाएंगे।

निडर होकर अपनी बात कैसे कहे
निडर होकर अपनी बात कैसे कहे

समय रहते लोगो की कद्र करे

अक्सर लोग जब कोई इस दुनिया से चला जाता है तो कहते हैं की वह बहुत अच्छा था, देखा जाए तो इसका कोई मतलब नहीं है, क्योंकि जाने वाला तो चला गया अब आपके बोलने से कुछ नहीं होगा पर यदि यही बात आप उसके जिन्दा रहते बोलते तो शायद बात ही कुछ और होती। निडर वह हैं जिसने जीवन में समय रहते सबकी क़द्र की हैं, सबको समझा हैं, सबका साथ दिया हैं इत्यादि।

गलत बात का विरोध करे

अक्सर गलत वही होता हैं जहा कोई बोलता नहीं हैं, यदि आप अपने आस -पास या आपके साथ की खुद गलत होता पाए, आपको ऐसा फील हो कि बिना वजह आपको सताया जा रहा हैं, तो वही पे उसे स्टॉप कर दीजिये क्योंकि जब तक आप खुद से सामने वाले तो नहीं बोलेंगे आप यूं ही पिसते रहेंगे। कोई आपको तब तक परेशान करता रहेगा जब तक की आप एक बार उसके तेज से स्टॉप नहीं करेंगे इसलिए आप मत घबराइए बल्कि ऐसे बनिए की लोग आपकी सच्चाई और ईमानदारी को देखकर घबराने लगे।

Boldness will come to you when you will be honest and polite.

Share This :