आज हम सब बहुत सारे रिश्तों में हैं, पर फिर भी feeling alone in a Relationship (रिश्ते में अकेला महसूस करना) एक कॉमन बात हो गयी हैं । आज अगर आप अपने आस पास एक नजर डालेंगे या अपने आस पास के लोगो से बात करेंगे तो आपको पता चलेगा की ज्यादा तर लोग सारे रिश्तों के होने के बावजूद भी अकेलापन महसूस कर रहे हैं । ये बहुत ही दुःख की बात हैं, की कहने को तो हर कोई अपना हैं, पर अपनेपन का अहसास कही नहीं हैं ।

आज ऐसा क्या हो गया हैं, जब हर कोई अपना -अपना खा रहा रहा हैं, अपना -अपना पहन रहा हैं तो किस बात की लड़ाई , पता नहीं लोगो को किस बात का डर हैं , जो पास होकर भी दूर हो गए हैं । ये समस्या किसी एक व्यक्ति के साथ नहीं हैं, सबके साथ हैं, पर बात कोई नहीं करना चाहता हैं। जैसे चल रहा रहा हैं, चलने दो, ऐसी सोच के साथ अपनी लाइफ को जी रहे हैं ।

Feeling Alone in a Relationship

रिश्ते तो इसी लिए होते हैं, जब आप को किसी की जरुरत हो तो लोग आपके साथ हो, पर वास्तविकता क्या हैं, यहाँ साथ होना तो दूर की बात हैं, लोग आपसे बात करने में ही इंटरेस्टेड नहीं हैं ।

एक बात हम सबको समझना होगा की किसी भी रिश्ते को चलाने के लिए दोनों पक्षों की जिम्मेदारी बराबर की हैं , अगर एक तरफ से ढील हुयी तो दूसरी तरफ से रिश्ता अपने आप ही टूट जाएगा।

Reasons to feel lonely in a relationship (किसी रिश्ते में अकेला महसूस करने के कारण)

एक दूसरे के प्रति प्यार की कमी

आज अकेलापन फील करने का कारण , एक दूसरे के प्रति प्यार की कमी हैं। अपनी पसंद और ना पसंद को वैल्यू ना देकर , अपने रिश्ते को वैल्यू दे। किसी भी रिश्ते को चलाने के लिए प्यार की जरुरत होती हैं , प्यार ही वह ताकत हैं जो आपको सबसे जोड़ कर रखती हैं। इसलिए अपनों से प्यार करें।

एक दूसरे के प्रति आदर की कमी

आदर की भावना एक ऐसी भावना हैं, जिसके बिना किसी भी रिश्ते की कल्पना नहीं की जा सकती हैं , यदि आप किसी की इज्जत करना जानते हैं तो आप रिश्तों को निभाना भी जानते हैं। एक बात और हैं दुनिया में बहुत से लोग ऐसे भी होंगे जिनसे आप सहमत नहीं होंगे, पर इसका मतलब ये नहीं हैं की आप उस इंसान का आदर ना करें।

दुनिया में वह हर इंसान जो आपसे बड़ा हैं, वह आदरणीय हैं, ये हमे भी समझना हैं और अपनी आने वाली पीढ़ी को भी समझाना हैं। कुछ लोगो को कहते सुना हैं, की वह इंसान आदर के योग्य नहीं हैं, ये गलत हैं, आप अपने कर्म अच्छे करिये , किसी और को जज ना करे। अगर आप भी किसी को आदर नहीं देते हैं, तो आप में और उस व्यक्ति में क्या फर्क रह गया।

उदाहरण से समझिये – यदि आपके खुद के माँ -बाप भी कभी आपको गलत लगे , और उसके कारण आप अपने माँ -बाप कुछ ख़राब शब्द बोले , ये भी कही ना कही गलत हैं। आज क्या हममे इतना भी धैर्य नहीं हैं की हम अपने माँ बाप की बात सुन ले। होता हैं कई बार जाने अनजाने में माँ -बाप भी अपने बच्चो को कटु वचन बोल देते हैं, जो उन्हें नहीं बोलने चाहिए , पर इसका मतलब ये कतई नहीं हैं की हम अपने माँ बाप को पलट कर कुछ कहे। अगर कोई आप से चिल्लाकर बात कर रहा हैं, तो वह इंसान आपको आज भी अपना समझता हैं वरना बेटा -बेटा या बेटी- बेटी कहने वाले तो बाहर आपको लाखों लोग मिल जाएंगे।

एक दूसरे के प्रति जलन की भावना

ईर्ष्या और जलन ने जिसके दिल में अपनी जगह बना ली , उसके दिल में कोई भी रिश्ता अपना घर नहीं बना सकता हैं । मेरे पास ये हैं, तुम्हरे पास ये हैं, इस पर कभी चर्चा ना करें। आपके पास जो भी हैं, वह आपकी मेहनत और आपका भाग्य हैं इसके लिए किसी दूसरे के प्रति जलन भावना रखना भी एक तरह से अपना नुक्सान करना हैं।

रिश्तो से ज्यादा बाहरी लोगो पर भरोसा

घर के रिश्ते को वैल्यू ना देना और बाहरी लोगो के साथ ऐसे रहना जैसे वह आपके सबसे सगे हैं। मेरा कहने का मतलब ये नहीं हैं की आप बाहरी लोगो से दोस्ती ना रखे, बल्कि कहने का मतलब हैं की आप अपने रिश्तो पर भी विश्वास रखे।

घर में अगर आपके पापा या मम्मी आप पर चिल्लाते हैं, समझाते हैं तो आपको बहुत बुरा लगता हैं , और जब आपके दोस्त की मम्मी आपसे बेटा कहकर बड़े प्यार से बात करती हैं तो आप सोचते हैं की ये कितनी अच्छी हैं। ये सब दिखावा होता हैं, क्या पता अकेले में वह भी अपने बच्चे को डांटती हो, और ठीक भी हैं, अपने बच्चे को डांटने के लिए क्या किसी की परमिशन लेनी पड़ेगी। आप किसी भी रिश्ते में हो , भरोसा करना सीखे।

जहा विश्वास होगा , वह आप अपनी बात को खुलकर कह पाएंगे , अपनी खुशियों को अपने ग़मो को बता पाएंगे। जिंदगी एक जैसी नहीं चलेगी , जो हम कहे की , हमे किसी की जरुरत नहीं पड़ेगी । आने वाला वक़्त क्या -क्या दिखाने वाला हैं, इसका अंदाजा ना आपको हैं और ना ही मुझे , इसलिए अभी भी समय हैं, ना अकेले रहे और ना ही किसी अपने को अकेला फील करने दे । एक दूसरे से बात करे, एक दूसरे की केयर करें, एक दूसरे से प्यार करें और एक दूसरे पर विश्वास करें ।

अकेलेपन की समस्या को दूर करने के उपाय

अपनी सोच को बदले

आज हमारी सोच ही हमारी सबसे बड़ी दुश्मन हैं । अपनी सोच पर कण्ट्रोल रखे। हमेशा किसी भी पहलू को दोनों तरफ से देखे , एक तरफ से ना सोचे। अक्सर हम अपने मन में बहुत से ख़याली पुलाव बना लेते हैं , की उसने ऐसा क्यों कहा , उसने बात नहीं की, उसने सही से रिस्पांस नहीं किया , क्यों हमने आज अपने आप को दूसरों पर इतना निर्भर कर दिया हैं।

अगर हम सोचे की हो सकता वह इंसान बिजी हो, या किसी प्रॉब्लम में हो, या कोई और बात हो, इत्यादि। मतलब जरा सी देर में किसी भी व्यक्ति के बारे में कोई भी राय बना लेना ठीक नहीं हैं , इतना हैं तो पूछ लीजिये , और अगर हिम्मत नहीं हैं तो अपने रिश्तों को समय दे। अपने रिश्तों को जितना समय देंगे उतना ही उन्हें समझेंगे , किसी भी व्यक्ति को समझने में कभी -कभी हमारी पूरी जिंदगी लग जाती हैं ।

सबसे बात करें

आज लोगो ने ये सोच भी अच्छी बना ली , की रिश्तें बिगड़ रहे हैं तो बिगड़ने दो, मेरा क्या जाता हैं, ये सोच बहुत ही गलत हैं । इसका मतलब ये हैं की वास्तव में आप ही रिश्ते बनाना नहीं चाहते हैं पर आप ये बात स्वीकार नहीं कर रहे हैं, और इसका सारा blame सामने वाले पर डालना चाहते हैं ।

Life is too long , कब किसकी जरुरत पड़ेगी , पता नहीं और ये भी सच हैं की आप जिस व्यक्ति से ज्यादा दूर रहने की कोशिश करेंगे , एक दिन आपको उसी से हेल्प लेनी पड़ेगी, इसलिए अपने रिश्तों को ऐसे ना टूट जाने दे।

अपने Ego को हमेशा साइड में रखे

आज लोगो के रिश्ते ना चल पाने के कारणों में से ego भी एक विशेष कारण हैं । जरा सा किसी ने कुछ कह दिया , दिल पर ले लिया। जब भी आपको कोई hurt करें , तो उस समय उससे कुछ ना कहे , बाद में उसे अकेले में बैठकर बात करें, और उसे बताये की तुम्हारी इस बात से मुझे बहुत दुःख और गुस्सा दोनों आया । ये थोड़ा मुश्किल हैं, पर समझदारी से काम ले , सबके सामने कोई छोटी भी बात बड़ी लड़ाई झगडे का रूप ले सकती हैं ।

मस्त मौला रहे, दुनिया क्या कह रही हैं, इस पर ध्यान ना दे, बल्कि ये सोचे की आप कैसे खुश रह सकते हैं । किसी भी relationship को maintain करने के लिए अपने ego को हटाना होगा । Ego प्रॉब्लम आज एक बहुत बड़ी समस्या हैं , और इसके कारण बड़े से बड़ा और मजबूत से मजबूत भी रिश्ता एक पल में टूट सकता हैं , इसलिए अपने रिश्तों में अपनी ego को जगह ना दे ।

हमेशा कोई नहीं रहेगा , इस सत्य को दिन में एक बार याद करें

आज आपके जो भी अपने हैं, और आप उनसे परेशान हो , पर कभी आपने सोचा हैं , की इस दुनिया में कुछ भी हमेशा नहीं रहेगा , एक दिन सबको यहाँ से जाना हैं । आज तुम जिसे अनदेखा कर रहे हो, जब वह दुनिया में नहीं होगा तब शायद तुम्हे उस इंसान की value मालूम पड़ेगी और उस समय बहुत देर हो जायेगी । इसलिए अपने कीमती रिश्तों को समय दो । आज हर व्यक्ति पैसे का नहीं प्यार का भूखा हैं , यदि आप अपने अपनों से प्यार करेंगे , स्नेह करेंगे , तो कही ना कही आप उनकी जिंदगी को कुछ और साल आगे ले जाएंगे ।

आज बच्चो को अपने माँ बाप से शिकायते हो जाती हैं , ठीक हैं आपके और आपके पेरेंट्स के विचार नहीं मिलते हैं, पर इसकी वजह से क्या आप अपने पेरेंट्स को अकेला छोड़ देंगे, क्या उन्हें अकेला फील करवाएंगे। बिलकुल गलत हैं ये , जिन माँ बाप ने अपनी जिंदगी को तुम्हारे नाम कर दिया , उनके साथ ऐसा करना बिलकुल गलत होगा । एक दिन जब आप खुद इस दौर से गुजरेंगे तो आपको सब कुछ समझ में आ जाएगा ।

ये जिंदगी चार दिन की हैं , इसे खुलके जियो, मिलके जियो। सब यही छूट जाएगा, जाएगा तो सिर्फ आपका व्यवहार, इसलिए अपने स्वभाव को अच्छा रखो, किसी की गलतियों को माफ़ करना सीखो, हंसो और सबको हँसाओ । जिंदगी को सीरियसली ना लो , पर लोगो को सीरियसली लो। खुद को इतना बिजी ना दिखाओ की कोई तुमसे बात करना चाहे फिर भी ना कर पाए । कुछ भी ऐसा ना करो, जिससे कल तुम्हे पछताना पड़े । सब कुछ यहाँ भोग कर जाना पड़ेगा , इसलिए जो भी करो सोच समझ करो ।

Share This :