क्या आप selling के बिज़नेस में हैं तो आइये जानते हैं How to be successful in selling. Selling भी एक तरह की स्किल हैं जिसे सीखा जा सकता हैं क्योंकि आमदनी तभी बढ़ेगी जब सामान बिकेगा। किसी भी बिज़नेस में या नौकरी में कुछ ना कुछ सेल जरूर होता हैं, तभी उसके बदले पैसे आते हैं।

दुनिया में ज्यादातर लोगो को selling करना अच्छा नहीं लगता हैं, लोग selling करने से घबराते हैं, बल्कि उन्हें कुछ भी खरीदना अच्छा लगता हैं, पर क्या आपने कभी इस बात पर गौर किया हैं की पैसा बेचने से आएगा ना की कुछ भी खरीदने से आएगा।

आज लोग इस बात को माने या ना माने पर दुनिया का हर एक व्यक्ति कही ना कही selling बिज़नेस में हैं, कोई अपनी नौकरी में प्रोडक्ट बेच रहा हैं, कोई सर्विस बेच रहा हैं, कोई अपनी कंपनी के सॉफ्टवेयर को बेच रहा हैं, और कोई खुद की स्किल को बेच रहा हैं, मतलब आप समझ गए होंगे की आप जिस चीज से इतना ज्यादा घबरा रहे हैं, वह काम आप सब पहले से कर रहे हैं, फर्क सिर्फ इतना हैं की आप अपने लिए नहीं बेच रहे हैं, आप अपनी कंपनी या आर्गेनाईजेशन की तरफ से बेच रहे हैं।

सबसे पहले तो ये समझ लीजिये की जब आप खुद के लिए बेचेंगे तो आपको दूसरों के लिए बेचने से ज्यादा फायदा होगा, मतलब आप का खुद का बिज़नेस होगा जिसको आप अपनी इच्छा के अनुसार बढ़ा सकते हैं।

How to be successful in selling
How to be successful in selling

सबसे पहले समझ लीजिये की selling करने के लिए आपको बहुत सारे कस्टमर्स की जरुरत पड़ेगी, यानी की सबसे इम्पोर्टेन्ट हैं कस्टमर, और कस्टमर के साथ कैसे डील करना हैं ये समझना बहुत जरुरी हैं। Selling में सक्सेसफुल होने के लिए कुछ विशेष बातें हैं जिनको ध्यान में रखकर ही selling करे –

Quality प्रोडक्ट या सर्विस सेल करे

यदि आप selling बिज़नेस में हैं तो आप जो कुछ भी सेल करना चाहते हैं तो सबसे पहले तो good quality के प्रोडक्ट और सर्विसेज को ही सेल करना प्रेफर करे जिससे मार्किट में आपकी एक अलग पहचान बनेगी या आप एक काम ये भी कर सकते हैं की आप अपने प्रोडक्ट की वास्तविकता को शेयर करके ही प्रोडक्ट सेल करे, जैसे यदि आपको पता हैं की कोई प्रोडक्ट सिर्फ एक साल ही चलेगा तो आपको ये कहने की कोई जरुरत नहीं हैं की ये प्रोडक्ट दो साल चलेगा।

जब आप अपने कस्टमर को सही जानकारी देंगे तो वह कस्टमर आपके पास फिर आएगा और बार -बार आता रहेगा। किसी भी प्रोडक्ट को किसी एक कस्टमर को एक बार बेचने से ज्यादा बार -बार बेचना ज्यादा फायदेमंद होता हैं, इतना तो आपको भी पता हैं इसलिए अच्छे प्रोडक्ट रखे जिससे कस्टमर बार -बार आये।

कस्टमर की need समझे

कस्टमर क्या चाहता हैं, इस बात पे फोकस करे, ना की अन्य प्रोडक्ट्स को दिखाकर अपना और कस्टमर दोनों का समय ख़राब करे। आपका कस्टमर क्या चाहता हैं, किस तरह का प्रोडक्ट चाहता हैं, ये बात समझ लीजिये और उसके बाद ही प्रोडक्ट्स दिखाए तो ज्यादा अच्छा रिस्पांस आता हैं। अगर कस्टमर को सुई की जरुरत हैं तो उसका काम धागे से नहीं चल सकता हैं, ऐसे ही ये आपको identify करना हैं की आपका ग्राहक आपसे क्या चाहता हैं।

कस्टमर की पसंद को जानने की कोशिश करे

एक अच्छे दुकानदार की यही पहचान हैं की वह अपने कस्टमर की पसंद और ना पसंद को समझने की पूरी कोशिश करे, जिससे डील जल्दी हो जायेगी और कस्टमर कभी भी आपकी दुकान से खाली नहीं जाएगा, जो की बहुत जरुरी हैं। यदि आप अपनी दुकान में अपने कस्टमर्स की पसंद का जितना ज्यादा आइटम रखेंगे आपके लिए उस सामान को बेचना उतना ही आसान होगा।

कस्टमर का बजट समझे

अपने कस्टमर का बजट समझना बहुत जरुरी हैं, हो सकता आपके कस्टमर का बजट कम हो या फिर अच्छा बजट हो, पर आप उसके पसंद और बजट के अंदर प्रोडक्ट्स ना दिखा पा रहे हो, इसलिए अपने कस्टमर से प्रॉपर कम्युनिकेशन रखे और बीच -बीच में प्रोडक्ट्स को दिखाते हुए उसकी पसंद और ना पसंद पर भी गौर करते रहे। आपको अपने कस्टमर की हेल्प करनी हैं जिससे वह आसानी से प्रोडक्ट को खरीद पाए।

कस्टमर को बोलने के लिए प्रेरित करे

एक बात हमेशा ध्यान रखना की कस्टमर से आपको ज्यादा नहीं बोलना हैं, बल्कि उसे बोलने के लिए प्रेरित करना हैं , जिससे आपको पता चलेगा की आपका कस्टमर आपसे क्या चाहता हैं, उसकी पसंद और ना पसंद क्या हैं, उसका बजट क्या हैं इत्यादि। जो लोग अपने कस्टमर को बोलने नहीं देते हैं, उनका सामान भी ज्यादा नहीं बिकता हैं इसलिए खुद कम बोले, कस्टमर को ज्यादा बोलने का मौका दे।

कस्टमर से प्यार और इज्जत से बात करे

आपके पास बहुत से लोग ऐसे आएंगे जो कुछ भी खरीदेंगे नहीं, ऐसे में इर्रिटेड नहीं होना हैं, आपको हमेशा धैर्य, प्यार और इज्जत के साथ ही अपने कस्टमर्स के साथ पेश आना हैं क्योंकि आपका अच्छा व्यवहार ही आपके कस्टमर को आपके पास वापस लाएगा। बहुत बार ऐसा होगा की आपका कस्टमर आपसे कुछ नहीं ले जाएगा, ऐसे में आपको परेशान नहीं होना हैं बल्कि कूल रहते हुए बात करनी हैं।

Share This :