Life में जो कुछ भी हो रहा हैं उसके जिम्मेदार किसी एक को ठहराना ठीक नहीं ।  बहुत सारे पल ऐसे आते हैं जब ये सोचना पड़ता हैं की how to handle a difficult situation. जब तक लाइफ में सब नार्मल चलता हैं , लाइफ बहुत ही आसान लगती हैं पर जैसे ही सिचुएशन थोड़ी ख़राब होती हैं , उस समय मन भारी होने लगता हैं और उस difficult situation को कैसे handle करें , इसके लिए मन और दिमाग भी सुन्न पड़ जाता हैं । 

जब difficult situation होती हैं तब सही से डिसिशन लेना भी बहुत कठिन हो जाता हैं ।  ये बात भी बिलकुल सही हैं की life is not a piece of cake, इसमें ना जाने कितने ऐसे मोड़ आएंगे जब आप अपने आप को बिलकुल alone  और helpless  महसूस करेंगे। आज इसी के बारे में बात करेंगे की कैसे किसी भी difficult situation से बाहर निकले। इस बात का किसी को अंदाजा नहीं हो सकता है की जीवन में क्या प्रॉब्लम कब आ जायेगी । Difficult situation में भी जितना हो सके calm रहे ।

how to handle a difficult situation
how to handle a difficult situation

Tips to handle a difficult situation

लाइफ में जब भी कोई प्रॉब्लम आये तो नीचे दी गयी बातों को फॉलो करें ।

समस्या का पता करें

आपकी difficult situation का कारण क्या हैं , सबसे पहले इस पर फोकस करे, ये ना सोचे की लाइफ में बहुत टेंशन्स हैं बल्कि ये सोचे की इस प्रेजेंट difficult situation से कैसे बाहर निकले । जितनी जल्दी आप समस्या का पता कर लेंगे तभी आप उस प्रॉब्लम का हल ढूढ़ पाएंगे। आप जितना प्रयास कर सकते हैं, उसमे कोई कमी ना करें । 

धैर्य से काम ले

Difficult सिचुएशन में आपका एक साथ अनेको हालातों से जैसे उदासी, क्रोध, हताशा, चिंता और निराशा से सामना होगा इसलिए आप धैर्य से काम ले और अपने आस – पास वालो को भी शांत रहने के लिए बोले ।  क्योंकि कभी – कभी समस्या इतनी बड़ी नहीं होती जितना हम परेशान हो जाते हैं , हां समस्या बड़ी भी है तो भी आपके चिंता करने से दूर नहीं होगी, इसीलिए अपने मन से धैर्य को  ख़तम ना होने दे और अपने पूरे विश्वास के साथ प्रॉब्लम से निपटे ।

हेल्प मांगने में ना हिचकिचाए

Difficult  situation किसी के भी जीवन में आ सकती हैं, ये कोई नहीं कह सकता हैं की मेरी लाइफ में प्रॉब्लम नहीं हैं या आ नहीं सकती हैं, इसीलिए अपने परिवार के लोगो और दोस्तों से उनसे जिस तरह की भी आपको हेल्प चाहिए हो , बिलकुल निसंकोच मांग ले , कोई ना कोई रास्ता जरूर निकल जाएगा ।  किसी से अपनी प्रॉब्लम के बारे में बात करने से मन भी हल्का होगा और निश्चित रूप से आपको सही मार्गदर्शन भी मिलेगा।  Difficult  situation एक नाजुक समय हैं जिसमे सही decision लेना भी एक बहुत बड़ा चैलेंज होता हैं, ऐसे में मन कुछ और कहता हैं और दिमाग कुछ और, इसलिए लोगो से सही राय लेना आपको Difficult  situation  से बाहर निकलने में मदद करेगा । खुलकर अपनी प्रॉब्लम सबसे शेयर करे, लोग पूरी बात सही से नहीं बताते हैं ऐसा करने से सामने वाला भी आपको सही राय नहीं दे पायेगा ।

Difficult  situation से भागे नहीं

चाहे जितनी भी Difficult  situation हो आपके एक सही निर्णय से Difficult  situation भी normal situation में बदल सकती हैं ।  इसलिए परिस्थितियों का सामना करें ना की उससे दूर भागे ।  Difficult  situation से लड़ना भी बॉर्डर पे लड़ने जैसा ही  हैं वहां पर आपका शरीर लड़ाई करता हैं और यहाँ पर आपका मन । Difficult  situation  में  आपके मन में बहुत से सवाल होंगे जिनके जवाब आपका मन ढूढ़ रहा हैं, और अगर आप थोड़ा सा आराम से सोचेंगे तो आप Difficult  situation को handle कर लेंगे ।

Alert रहे

Difficult situation में आप हर दम पूरी तरह से अलर्ट रहे , एक छोटी से भी लापरवाही आपको ज्यादा परेशानी में डाल सकती हैं, इसलिए Difficult situation में किसी छोटी सी बात को भी अवॉयड ना करें ।

यथार्थवादी बनें

प्रॉब्लम की जड़ को समझे और यथार्थ वादी बने । Difficult  situation की गहराई को समझे, और उस पर सही विचार करके ही किसी निर्णय पर पहुंचे । अपनी प्रॉब्लम को बताने में भी लोग शर्म महसूस करते हैं, ऐसा करना बिलकुल गलत हैं , अगर आप अपनी प्रॉब्लम सबको बताएँगे तभी आपको हल मिलेगा।  एक उदहारण के द्वारा आपको समझाने का प्रयास करना चाहूंगी की जब एक छोटा बच्चा दूध के लिए रोने लगता हैं तभी उसकी माँ उसे दूध देती हैं , कहने का मतलब है जब तक आप अपनी प्रॉब्लम को शेयर नहीं करेंगे , लोगो को लगेगा की सब ठीक हैं ।  जब सब ठीक नहीं हैं तो क्यों कहना सब ठीक हैं , प्रॉब्लम को और बड़ा ना करें ।

आशावादी बनें

Difficult  situation को handle करने के लिए आशा वादी बने रहे, हालांकि किसी भी ख़राब अवस्था में आशावादी बने रहना बहुत कठिन होता हैं, पर आप इसे एक चैलेंज की तरह हैंडल करें । अच्छा सोचे , बुरे ख्यालों से अपने मन को दूर रखे । लाइफ को आप कैसे हैंडल कर रहे हैं इसका सही निर्णय तो किसी डिफिकल्ट सिचुएशन में फसने के बाद ही पता चलेगा और आप उस डिफिकल्ट सिचुएशन में अपनी सूझ – बूझ से कैसे बाहर निकलेंगे , ये पूरी तरह से आपके विवेक पर निर्भर करता हैं

Share This :