How to handle rejection क्योंकि जीवन में बहुत बार ऐसे पल आते हैं जब हम सब को rejection का सामना करना पड़ता हैं। Life में ये जरुरी नहीं हैं की आप जो चाहे वह आपको मिल जाए।

सबसे पहले तो अपने मन को ये समझाना होगा की जरुरी नहीं है की Life में हम जो चाहे वह हमे मिल जाए। जब जिंदगी में किसी से भी ज्यादा उमीदें होती हैं और अचानक हमारी कोई बात पूरी नहीं होती हैं तो हम अपने आप में ही दुखी हो जाते हैं।

Life में बहुत बार आप reject होंगे और बहुत बार select भी होंगे , रिजेक्ट होने पर जितना दुख होगा उसे कही ज्यादा ख़ुशी सेलेक्ट होने पर होगी। हम सब कही ना कही अपने कर्मो का ही खा रहे हैं, जो कुछ भी हो रहा हैं वह हमारे द्वारा बनायीं गयी रूप रेखा के आधार पर ही हो रहा हैं।

How to handle rejection

Life में जब भी दुःख आता हैं तो हम सब ऐसे सहम जाते हैं जैसे Life में कुछ भी नहीं हैं , पर जैसे ही थोड़ी भी ख़ुशी आती हैं , हम फिर से खिलखिलाने लगते हैं। कही ना कही rejection को फील करना आपके मन के अंदर की ही कमजोरी हैं। जब हम किसी काम को अच्छे से नहीं कर पाते हैं, और उससे कारण हम अपने लक्ष्य की प्राप्ति नहीं कर पाते हैं , उस समय हमे rejection की feeling आती हैं।

Life में जब भी आपको rejection मिले तो कभी घबराना नहीं और उसे अपने आप से मत जोड़ना। कभी -कभी लोग आपको रिजेक्ट नहीं करते हैं, आपके द्वारा किये गए कार्यों को रिजेक्ट करते हैं।

दुनिया में हर कोई एक जैसी सोच के साथ पैदा नहीं हुआ हैं, सबकी अलग -अलग सोच हैं और अलग -अलग विचार हैं और हर कोई उसी के अनुसार किसी भी वस्तु का चुनाव करता हैं। मतलब कह सकते हैं की सबकी पसंद एक जैसी हो ये जरुरी नहीं हैं।

Rejection होने के मूल कारण

रिजेक्शन या सिलेक्शन एक ही सिक्के के दो पहलू हैं , कब क्या होगा किसी को नहीं पता हैं। जब भी रिजेक्शन होता हैं, तो उसके कुछ मूल कारण होते हैं।

सबकी पसंद और समझ का अलग -अलग होना

Life में हमे ये सोच बिलकुल नहीं रखनी चाहिए की हम जो करेंगे वही सब करेंगे। जैसे सबकी पसंद अलग -अलग होती हैं वैसे ही सबकी समझ अलग -अलग होती हैं। हर चीज को हर बात को देखने और सुनने का नजरिया सबका अलग -अलग हो सकता हैं, इसलिए जब भी आपकी किसी भी बात का रिजेक्शन हो तो उसे बिलकुल दिल पर नहीं लेना चाहिए।

आजकल ज्यादातर लोग ये सोचने लगते हैं की उसने हमे मना कर दिया , और इसी सोच से वह अपनी मन में लोगो के प्रति भी एक तरह की नेगेटिविटी को पैदा कर लेते हैं , जो की गलत हैं। आप अपना कर्म करे, कोई उस को फॉलो करे या ना करे, इस बात के बारे में कतई आपको नहीं सोचना चाहिए।

सबकी किस्मत का अलग – अलग होना

आप जिस चीज के लिए भी life में rejection पाते हैं , शायद वह आपकी Life में या सामने वाले की लाइफ में ना हो। कभी कभी हमे किस्मत का खेल समझकर भी अपने दिल को समझा लेना चाहिए। हर बात के पीछे कोई ना कोई कारण अवश्य होता हैं , यदि आपको life में कोई चीज चीज ना मिले या सामने वाले को ना मिले तो यही मान लेना चाहिए की ये मेरी किस्मत में नहीं है या उसकी किस्मत में नहीं हैं।

जो हो रहा है अच्छा ही होगा , इस सोच के साथ जिंदगी में आगे बढे। Life में बहुत बार ऐसा होता हैं, की हमारे मन का कुछ नहीं होता हैं , पर जो होता हैं वह भी अच्छा ही होता हैं। जरुरी नहीं आप जो चाहते हैं, जिस चीज या बात को सही मानते हैं, वह वास्तव में सही ही हो , इसलिए किसी भी बात के लिए ज्यादा ना सोचे बल्कि उसे समय पर छोड़ दे।

हम सब कही ना कही जब भी हमारी कोई बात नहीं मानी जाती हैं , या कोई इच्छा पूरी नहीं होती हैं तो हम दिल में नाराज हो जाते हैं, पर ये नहीं सोचते है की कभी कभी जो फैसले हमारे हक़ में नहीं होते हैं, वह भी हमारे लिए सही हो सकते हैं। ऐसा कभी भी ना सोचे की आप life में कोई गलत निर्णय नहीं ले सकते हैं , गलती तो किसी से कभी भी हो सकती हैं, जो लोग ज्यादा फूँक -फूँक के कदम रखते हैं, वह भी गलती करने से नहीं बच पाते हैं।

सबकी मेहनत करने की छमता का अलग -अलग होना

हर कोई अलग हैं, आप किसी से किसी की तुलना नहीं कर सकते हैं। Life में जरुरी नहीं हैं, की जो आप कर सकते हैं, वो सामने वाला भी कर सकता हो, इसलिए किसी को भी किसी काम के लिए force ना करे, जो काम स्वैछिक मन से होते हैं, वही ज्यादा सफल होते हैं।

आज लोग अपनी लाइफ स्टाइल दूसरों पर थोपने की कोशिश करते हैं, जैसे मैं कर रहा हैं, तुम भी करो। इस तरह की सोच के लोग ही हमेशा परेशानियों और उलझनो में घिरे रहते हैं। आप हमेशा सबको सही राह बताये पर सब आपकी बताई गयी राह पर चलेंगे ही , ये जरुरी नहीं हैं , इसलिए अपनी सोच को बड़ा करो।

हमेशा ध्यान रखना किसी से कोई काम जबरदस्ती नहीं करवाया जा सकता हैं, यदि आपने किसी से forcefully एक बार कोई काम करा भी लिया तो इस बार की कोई गॅरंटी नहीं हैं की वह व्यक्ति दोबारा उस काम को करेगा या नहीं करेगा। जो जैसा चाहता हैं, उसे वैसा ही करने दे, आप बस जो भी बताये और समझाये वह उस व्यक्ति और समाज दोनों के लिए सही हो, बस आपके लिए इतना सुनिश्चित होना ही काफी हैं।

सब मे संतुस्टी की प्राप्ति का अलग -अलग होना

क्या कभी हमने इस बात पर ध्यान दिया हैं की दुनिया में हर कोई अलग -अलग स्टेटस बनाकर भी खुश हैं। कोई बहुत अमीर हैं, तो कोई उतना अमीर नहीं हैं, फिर भी हर कोई अपनी life में खुश रहने की कोशिश करता हैं , और कही ना कही जिसके पास जो हैं, वह उसमे संतुस्ट हैं। तो ऐसे में हमे एक बात हमेशा अपने मन में समझ लेनी चाहिए की जरुरी नहीं हैं की हर व्यक्ति की चाहत एक हो, कोई पैसा चाहेगा, तो कोई अच्छा स्वास्थ चाहेगा , तो कोई अपने बच्चो के लिए उच्च शिक्षा चाहेगा।

मतलब साफ़ जितने लोग उतने की उनके सपने होते हैं और हर व्यक्ति के लिए उसके सपने का अलग ही महत्व हैं। आज एक वास्तविकता ये भी हैं की हर कोई सपनो से ज्यादा आज अपनी जरूरतों पर focus कर रहा हैं , और ठीक बात भी हैं, सबसे ज्यादा important हैं, रोटी, कपडा, और मकान , जिस को कमाने में life ख़तम हो जाती हैं।

हमेशा ध्यान रखिये। जब भी कोई आपकी बात को रिजेक्ट करे , तो आप उसकी बात का बिलकुल भी बुरा ना माने , जब भी मिले बड़ी ही विनम्रता और आदर से बात करे। आपका काम हैं लोगो की मदद करना, उन्हें सही राह दिखाना , अब इस पर जो चलना चाहेगा वो चलेगा और जो नहीं चलना चाहेगा वो नहीं चलेगा, इसलिए कभी भी rejection को दिल से मत लगाना और अपने लक्ष्य पर धीरे -धीरे कछुवे के माफिक चलते रहना , एक दिन आप अपनी मंजिल तक पहुंच जाएंगे और उस दिन लोग आपकी द्वारा कही गयी हर बात को याद करेंगे।

Share This :