दुनिया की तमाम सांसारिक उलझनों में हम सब ऐसे उलझ गये हैं की ऐसे में अपने अशांत मन को कैसे शांत रखें एक बहुत ही मुश्किल काम हैं । आज जीवन में ना जाने कितनी उलझने हैं, और ये किसी एक साथ नहीं हैं। समस्या तो हर व्यक्ति के साथ हैं, किसी को किसी ना किसी चीज से प्रॉब्लम ना हो , ऐसा हो ही नहीं सकता हैं, और कही ना कही जीवन का मतलब ही हैं, कभी सुख तो कभी दुःख , कभी mood अच्छा तो कभी तो कभी sad ।

अशांत मन को कैसे शांत रखें
अशांत मन को कैसे शांत रखें

दुनिया में हर व्यक्ति विशेष अलग हैं , इसलिए जरुरी नहीं हैं की हर व्यक्ति को अपने मन को शांत रखने का तरीका एक हो, हर इंसान की वर्तमान स्थित के अनुसार उसका मन होता हैं, फिर भी कुछ ऐसे कॉमन तरीके हैं जिनसे आप अपने मन को शांत रख सकते हैं ।

मन को शांत रखने की टिप्स

मन चंचल होता हैं, एक पल में अच्छा और एक पल में बुरा फील करने लगता हैं, ऐसे में आपके मन को शांत रखने के लिए कुछ कारगर टिप्स आपके लिए लेकर आयी हूँ, मुझे पूरा विश्वास हैं की ये आपके मन को शांत रखने में आपकी हेल्प करेंगी ।

छोटे-छोटे ख़ुशी के पल को सेलेब्रेट करे

अपने मन को शांत रखने के लिए सबसे पहले छोटे छोटे पलों को एन्जॉय करना सीखे, ये ना सोचे की कुछ बड़ा होगा तब सेलिब्रेट करेंगे। हर पल को ख़ास बनाये।

अपने ऊपर फोकस करें

आज ज्यादातर लोग अपने आप पर फोकस करने से ज्यादा दूसरों पर करते हैं, जिससे कही ना कही आपका मन अलग -अलग विचारों से और बातों से भरा रहता हैं, और चाहकर भी आप अपने मन को शांत नहीं रख पाते हैं । इसका मतलब ये नहीं हैं की आप अपने अपनों से और दुनिया से पूरी तरह से अपने आप को dettach कर ले, बल्कि इसका मतलब यह हैं की आप अपनी राय और अपना समय सामने वाले को तभी दे जब वास्तव में उस व्यक्ति को इसकी जरुरत हो। जाने -अनजाने में हम सब अपनी ऊर्जा, समय और पैसा सब कुछ इधर -उधर लगा देते हैं, और अपने मन और शरीर दोनों को परेशान करते हैं ।

अपने emotions पर कण्ट्रोल रखे

आज दुनिया में हर वो व्यक्ति ज्यादा परेशान हैं जो ज्यादा emotional हैं, जब हर व्यक्ति के लिए सोचता हैं , समय आने पर उसकी हेल्प भी करता हैं, पर जब उसे कोई प्रॉब्लम होती हैं, तब उससे कोई नहीं पूछता हैं, तो ऐसे लोग किसी से कहते तो कुछ नहीं हैं, पर अंदर ही अंदर उनका मन हजारों सवालों के घेरे में चला जाता हैं।

आज जो जितना इमोशनल हैं, उसे सबकी उतनी ही चिंता हैं । इसलिए सबसे पहले अपने इमोशन पर कण्ट्रोल करना सीखे , जीवन की सच्चाई को समझे , यहाँ लोग उतनी ही देर तक बात करते हैं, जब तक उनका काम नहीं होता हैं, और एक बार काम निकल जाने के बाद वह पीछे मुड़कर भी नहीं देखेंगे।

अपनी फीलिंग्स को शेयर करें, लोग क्या कहेंगे इसकी चिंता ना करे

आज हम सब का मन शांत होने का एक ये भी कारण हैं की अपनी मन की बात को खुलकर किसी से ना कह पाना। आज हर रिश्ते में कम्युनिकेशन गैप हैं, जिसके कारण लोग अंदर ही अंदर घुटते रहते हैं और अपने मन की बात को किसी से नहीं कह पाते हैं। ऐसे में मन का अशांत होना लाज़मी हैं, इसलिए अपने घर में , दोस्तों से सबसे खुलकर बात करे, ये बिलकुल ना सोचे की कोई क्या कहेगा , जो जिसको कहना होगा वह वैसे भी कहेगा , पर जब आप अपनी प्रॉब्लम को खुलकर लोगो के सामने रखेंगे तो कोई ना कोई रास्ता जरूर निकलेगा ।

अगर आप संकोची स्वभाव के हैं, तो अपने स्वभाव को बदल दीजिये। लाइफ में आपके पास जो भी लोग हैं, उनमे से चाहे कोई आपकी मदद ना करें पर आपके घर वाले आपकी मदद जरूर करेंगे , आज भारत बदल रहा हैं, लोगो की सोच बदल रही हैं, लोग एक दूसरे के खड़े हैं, इसलिए अपनी प्रोब्लेम्स को शेयर करना शुरू करे, मदद मिले ना मिले आपका मन तो शांत होगा ।

अपने आस -पास के वातावरण को अच्छा रखे

खुश रहना सीखे, लाइफ की तमाम उलझनों के बीच भी जो अपने आप को खुश रखेगा वही सच्चा योद्धा हैं। लाइफ एक युद्ध के जैसी हैं और इस युद्ध में आपको हर हाल में जीतना होगा। हर माहौल में अपने आप को खुश रखे , इसके लिए कोशिश करें की आपके आस -पास का वातावरण सकारात्मक रहे। लोगो के प्रति और जीवन के प्रति पॉजिटिव सोच रखे, तभी आप अपने मन को भी शांत रख पाएंगे और अपनी लाइफ को भी अच्छे से व्यतीत कर पाएंगे।

अपनी हेल्थ का ध्यान रखे

दुनिया में सबसे इम्पोर्टेन्ट हैं आपकी हेल्थ , क्योंकि अगर आपकी हेल्थ अच्छी रहेगी तो आप वैसे ही अच्छा महसूस करेंगे। मन शांत ना होने का कारण आपकी हेल्थ भी हो सकती हैं क्योंकि कभी -कभी हम अपनी मेंटली या फिजिकली हेल्थ भी हो सकता हैं , इसलिए हेल्थ को ही वेल्थ समझे।

सच का साथ दे

हम सब जितना सच्चे होंगे उतना ही हमारा मन भी शांत होगा । आपके मन की अशांति का कारण कुछ भी हो सकता हैं, या कोई भी बात हो सकती हैं। जब आप सच्चे होंगे तो आपको किसी भी बात कर डर नहीं होगा । आपका रास्ता जितना सही होगा आपका मन उतना ही शांत होगा। इसलिए झूठ को बढ़ावा ना दे।

अपनी बात को कहना सीखे

अक्सर देखा गया हैं की उन लोगो का मन ज्यादा अशांत रहता हैं जो अपनी बात को कह नहीं पाते हैं और जिसके कारण वो अंदर ही अंदर सोचते रहते हैं । अपनी बात को अपने विचारो को अपने मन में ही रखते हैं और किसी से शेयर नहीं करते हैं। जो लोग किसी भी काम के लिए मना नहीं करते हैं, ऐसे लोग भी अंदर से अशांत रहते हैं, क्योंकि कोई ना कोई काम में वह हमेशा बिजी रहते हैं ।

आप भी इंसान हैं, आपकी भी फीलिंग्स और इमोशंस हैं, इसलिए हर बात को मान लेना ठीक नहीं हैं। ऐसे लोगो को कोई भी आसानी से दबा लेता हैं, और कभी -कभी तो बिना कुछ किये ही ये किसी बड़े झमेले में पड़ जाते हैं , इसलिए अपनी बात को कहना सीखे , मूक बनकर कुछ हासिल नहीं होगा।

लाइफ के प्रति निडर रहे

जीवन में ऐसे लोग भी होते हैं, जो आपको हमेशा डराते रहेंगे । इसलिए अपने मन में किसी भी बात को लेकर डर ना रहने दे, क्योंकि डर आपको अंदर ही अंदर परेशान कर देगा। लाइफ में जो कुछ भी हैं, जैसा भी हैं, उसे पूरी निडरता के साथ फेस करना सीखे। जब आप गलत नहीं हैं, तो किस बात का डर। एक डरा हुआ व्यक्ति ना तो अपने वर्तमान को एन्जॉय कर सकता हैं और ना भी भविष्य को , इसलिए डरो नहीं , सच का सामना करो।

पूजा पाठ और मैडिटेशन करें

दुनिया के भव सागर से पार निकलना हैं तो पूजा -पाठ और मैडिटेशन करें। पूजा पाठ करने से आप अंदर से मजबूत महसूस करेंगे आपको हर पल ऐसा महसूस होगा की जीवन में कोई आपका साथ दे ना दे पर भगवान हमेशा आपका साथ देंगे , क्योंकि हम सब के मन के अशांत होने का कारण हैं, हमारा आने वाला जीवन, जिसके बारे में किसी को भी पता नहीं हैं, की कैसा होगा ।

हम सब कही ना कही अपने आने वाले जीवन के लिए हमेशा चिंतिति रहते हैं, कहता तो हर कोई हैं की कल की चिंता ना करो, पर वास्तव में कल की चिंता सभी करते हैं इसलिए मैडिटेशन करना शुरू करें, इससे मन तो शांत रहेगा ही, आप शारीरिक रूप से भी स्वस्थ रहेंगे।

कर्म और किस्मत दोनों को वैल्यू दे

लाइफ में सब कुछ आपको मिल जाए , ये जरुरी नहीं हैं, कुछ लोग इन्ही सब बातों के कारण परेशान रहते हैं की उनके पास ये हैं, मेरे पास क्यों नहीं हैं, तो ऐसे में हम सब को एक बात समझनी पड़ेगी की सबकी किस्मत और मेहनत एक जैसी नहीं होती हैं । हो सकता हैं, आपने अपने उद्देश्य की पूर्ति के लिए भर्षक प्रयास किया हो , पर आपकी किस्मत ने आपका साथ ना दिया हो। जो भी हैं आपके पास , जितना भी हैं, उससे और ज्यादा पाने के लिए हमेशा कोशिश करते रहना बहुत ही अच्छी बात हैं पर उसके लिए हमेशा अपने मन को अशांत रखना , ठीक नहीं हैं ।

जीवन में हम सब को जो भी मिलता हैं, वह सिर्फ हमारे कर्मो और किस्मत के द्वारा ही मिलता हैं । अपने आस -पास हर व्यक्ति को देखे ना की सिर्फ उन्हें जो खुश हैं, पैसे वाले हैं। एक कहावत तो आप सब ने सुनी होगी की किसी के पैर पर पैर ना रखे, मतलब किसी की बराबरी ना करें , अपने पास जो हैं, या आप अपनी लाइफ जितना बेहतर कर सकते हैं , करें, पर अगर आपका कोई सपना पूरा ना हो पाए तो उसके लिए जिंदगी भर अपने मन को अशांत रखना बिलकुल भी ठीक नहीं हैं, ऐसा करके आप अपने साथ बहुत बड़ी नाइंसाफ़ी करेंगे।

Share This :