निराशा में भी एक आशा छुपी होती हैं। हमारे mind में जितने positive thoughts आते हैं उतने ही negative thoughts भी आते हैं ऐसे में How to lead Positive Life एक बड़ा ही important subject हैं। जीवन जब तक कठिन नहीं हैं जब तक आप पॉजिटिव सोचते हैं, जिस पल भी आप negative thoughts को अपने दिमाग में लाते हैं , उसी पल से आपका दिमाग एक अलग ही डायरेक्शन में सोचना और करना शुरू कर देता हैं।

सुबह से शाम तक के टाइम को भी देखेंगे तो कई बार हमारा मन अच्छा और बुरा feel करता हैं। किसी पल में सब ठीक और किसी पल में एक अजीब से निराशा घेर लेती हैं।

Positiveness एक बड़ी power हैं, जो लोग life के प्रति अपनी सोच को पॉजिटिव रखते हैं, वह जीवन में भी खूब सफल होते हैं और life को सही मायने में जीते हैं। आपके पास सब कुछ हैं, पैसा, पावर, रंग, रूप, लेकिन फिर भी आप अंदर से अच्छा feel नहीं करते हैं, इसका मुख्य कारण आपके अंदर छुपे हुए negative thoughts हैं।

अपने आप से एक सवाल पूछे, ” क्या मैं दुनिया का सबसे दुखी इंसान हूँ, आपके अंदर से जवाब आएगा, नहीं, बस उस पल से जो मन के अंदर दुःख और परेशानी हैं उसे अपने दिल और दिमाग दोनों से दूर कर देना। दुनिया में एक से बढ़कर एक दुखी हैं और सुखी भी हैं, इसलिए किसी से खुद की लाइफ को compare ना करे।

How to lead Positive Life

आज लोग अपने सुख से ज्यादा दूसरों की जिंदगी में झांकना पसंद करते है, जिससे वह हमेशा सब कुछ होते हुए भी किसी भी चीज का आनंद नहीं ले पाते हैं। दो से चार बनाना अच्छी बात हैं , पर चार के चक्कर में दो का आनंद ना लेना कहा की होशियारी हैं। एक व्यक्ति जो सोचता हैं की जब बढ़िया बिस्तर होगा तभी मैं आराम से सोऊंगा, ये सोच गलत हैं, नींद का बिस्तर से कोई लेना – देना नहीं हैं , जब नींद आएगी तो कही भी आ जायेगी और जब मन परेशान और दुखी होगा तो कही भी नहीं आएगी फिर चाहे room five star hotel में ही क्यों ना हो।

Life की वास्तविकता को समझिये , खुश वह हैं जो जीवन में हमेशा आगे बढ़ना चाहता हैं। सपने देखने में कोई बुराई नहीं हैं , पर उन सपनो को पूरा करने के लिए भी आपको ही आगे चलना होगा। अपने सपनो को पूरा करने के चक्कर में एक बात का हमेशा ध्यान रखना की सपने बड़े रखो, पर अपने सपनो को किसी की कब्र पर चढ़कर कभी पूरा ना करना।

आप जैसा feel करेंगे वैसा ही लोगो को वापस भी करेंगे , यदि आपका mood ख़राब हैं और उस समय आपसे कोई बात करता हैं तो आप उससे सही से बात नहीं कर पाएंगे या करेंगे ही नहीं , ज्यादातर ऐसा ही देखा गया हैं पर लेकिन जब आप अपने मन और दिमाग दोनों को अपने वश में रखेंगे और हर नेगेटिव बात में एक पॉजिटिव बात निकाल देंगे तो उस दिन समझ लेना की आप जीवन को अच्छे से जीना सीख चुके हैं, अब आपको आगे बढ़ने से और life में सफल होने से कोई भी रोक नहीं सकता हैं।

Tips to lead Positive Life

अपने मन के भावो को ना इतना दिखावो और ना इतना छुपाओ

यदि आप गुस्सा हैं तो इसका मतलब ये कतई नहीं हैं की आप किसी पर अपना गुस्सा निकाले। जिस व्यक्ति को आप पसंद नहीं कर रहे हैं, धीरे से उससे दूर हो जाइए , तू, तू मैं, मैं से हमेशा बचे। कहते हैं ख़ुशी में कोई वादा ना करे और गुस्से में कोई कटु वचन ना बोले, क्योंकि समय फिर सही हो जाएगा लेकिन आपके एक बार बिगड़े हुए रिश्ते कभी ठीक नहीं होंगे।

पॉजिटिव लोगो की संगत करो

लोगो को चुनाव सोच समझकर करे, जल्दबाजी में किसी के बारे में कोई राय ना बनाये। जरा सा आपको किसी ने pamper कर दिया आपने भी उसके गुणगान करने शुरू कर दिया, अपने रिश्तों को थोड़ा टाइम दे। पॉजिटिव लोगो के साथ दोस्ती करे, आप ऐसे लोगो के साथ जितना उठना बैठना करेंगे आपके लिए अच्छा होगा।

अच्छा सोचो और बोलो

अपने विचारों पर हमेशा कण्ट्रोल रखे, कभी कभी सब कुछ सही होने के बावजूद हम गलत विचारों में फस जाते हैं , इसलिए सबके लिए अच्छा सोचो फिर चाहे आप किसी को पसंद करे या ना करे।

जब तक आप अपनी सोच को नहीं बदलेंगे आप दुखी ही रहेंगे। दुःख – सुख एक फीलिंग है जिनकी वजह से भी आपकी सोच हर पल परिवर्तित होती रहती हैं , जरुरी नहीं हैं की जो चीज आपको आज पसंद नहीं है वह कल भी नहीं होगी इसलिए हमेशा सोचकर बोले। किसी के लिए भी अभद्र भाषा का प्रयोग ना करे, आप जितना प्यार और आदर से दूसरों से बात करेंगे बदले में आपको भी वही सब मिलेगा।

जीवन को चाहे संघर्ष मानो या फिर हर्ष मानो, दोनों ही आपकी सोच पर निर्भर करती हैं।

Share This :