जिंदगी में कुछ भी स्थिर नहीं हैं ऐसे में हम सब का मानसिक रूप से मजबूत होना बहुत जरुरी हैं, पर ये भी बात सत्य हैं की हम मानसिक रूप से कैसे मजबूत रहे ? (How to mentally strong ) शरीर को फिट रखने के लिए जितना शारीरिक ध्यान देना जरुरी होता हैं, उतना ही मानसिक रूप से भी ध्यान रखने की जरुरत होती हैं।

ये बात बिलकुल सच हैं जब हमारा शरीर और मन दोनों स्वस्थ होंगे तभी हम इस जीवन को अच्छे से बिता पाएंगे और अपने जीवन के उद्देशो को भी पूरा कर पाएंगे। आज का जो समय चल रहा हैं, इसमें हर व्यक्ति को मानसिक रूप से स्ट्रांग होना चाहिए। जीवन की कसौटी इतनी आसान नहीं हैं, और इस पर खरा उतरना भी आसान नहीं हैं ।

कभी कभी जीवन में ऐसे पल आते हैं जब हम सब अपने आप को मानसिक रूप से बहुत ही कमजोर महसूस करते हैं । आज ऐसी ही कुछ छोटी -छोटी टिप्स हैं जिनको करने मात्र से आप मानसिक रूप से और शारीरिक रूप से भी अच्छा महसूस करेंगे ।

मानसिक रूप से कैसे मजबूत रहे
मानसिक रूप से कैसे मजबूत रहे

मानसिक रूप से मजबूत रहने के तरीके

खूब हँसे और हंसाये

जिंदगी में जो कुछ होना हैं, वह होगा, जिसे मैं, आप या कोई भी बदल नहीं सकता हैं । आप बस अपनी लाइफ को बेहतर बनाने के लिए प्रयास करते रहे हैं । लाइफ में अच्छा या बुरा जो भी हो , बस हर सिचुएशन में हसने की कोशिश करे , क्योंकि रोने के बहाने तो लाखों होंगे पर हसने के बहाने ढूढ़ने पड़ते हैं इसलिए हसमुख बने ।

जहा बैठे , बस हंसी से चारों दिशाए झूम जाए । उदासी को अपने आस पास ना आने दे और ना अपने अपनों को दुःख में रहने दे । मिलजुल कर खुशिया बांटें, छोटी -छोटी खुशियों को सेलिब्रेट करे ।

अपने ऊपर स्ट्रेस (Stress) को ज्यादा हावी ना होने दे

स्ट्रेस किसकी लाइफ में नहीं हैं, पर कुछ लोग अपने स्ट्रेस के बारे में इतना ज्यादा बात करते हैं, की वह उस सिचुएशन से बाहर ही नहीं निकल पाते हैं । स्ट्रेस के बारे में सोचना भी तो स्ट्रेस हैं । प्रॉब्लम को कभी सोच कर नहीं सोल्वे कर सकते हैं, उसके लिए आपको सही समय पर सही एक्शन लेकर उसे दूर कर सकते हैं ।

कुछ लोगो को आपने कहते हुए सुना होगा, बहुत प्रॉब्लम हैं, सही नहीं हैं, अच्छा नहीं हैं, ऐसा कहने से क्या कुछ ठीक होगा, नहीं बल्कि आप और भी बेकार फील करेंगे। आपको हर तरफ बेरंग दुनिया ही दिखाई देगी, इसलिए स्ट्रेस और प्रोब्लेम्स के बारे में ज्यादा बात ना करें ।

खुल कर बात करना सीखे

जो लोग मन में ही सोचते रहते हैं, ऐसे लोग मानसिक रोगी हो जाते हैं, वह अंदर ही अंदर अपने आप से लड़ते रहते हैं , ना ही अपनी बात कह पाते हैं और ना ही किसी को कुछ बता पाते हैं और फिर धीरे -धीरे खुद को अकेला फील करने लगते हैं और एक समय ऐसा आता हैं जब दुनिया से खुद को दूर कर लेते हैं।

सबसे पहले अपने विचारों को खुलकर सभी से शेयर करें, आज सभी को अपनी बात कहने की आजादी हैं, तो ऐसा ना सोचे की आपकी बात से कोई गुस्सा होगा या परेशान होगा। कभी भी इंसान से लड़ाई नहीं होती हैं, बल्कि उसके विचारों से होती हैं और हम सब को ये समझना भी पड़ेगा जब हम सब अलग -अलग हैं तो हमारे विचार एक कैसे हो सकते हैं ।

कभी भी किसी के दबाव में ना रहे, अपनी जिंदगी को अपने हिसाब से जिए , वरना अंत में मानसिक विकार ही मिलेगा और कुछ भी नहीं । किसी के लिए आपके मन में कोई बात हैं, किसी से कोई परेशानी हैं तो उस व्यक्ति से खुल कर बात करें और यदि ऐसा नहीं कर सकते हैं , तो बातों को इग्नोर करना सीख लीजिये क्योकि जिंदगी में ना ही आप सबको खुश कर सकते हैं और ना ही आपको सब लोग खुश कर सकते हैं। अपनी बात को आप जितनी होशियारी से सबके सामने रखेंगे आप उतना ही मानसिक रूप से अच्छा फील करेंगे । शरीर में जो भी फंक्शन हो रहे हैं, उसके लिए जो गाइडेंस आता हैं वह हमारे मस्तिष्क से ही आता हैं , इसलिए मानसिक रूप से खुश रहे।

अपनी पसंद का कार्य करें

जिस चीज में आपकी रूचि हो, उस काम को करें । आप ऐसा क्या बिजी हो गये अपने जीवन में की आपने अपनी जिंदगी को जीना ही छोड़ दिया। आप तो अच्छे सिंगर थे, प्लेयर थे, डांसर थे, राइटर थे, और ना जाने क्या क्या खूबिया थी आपमें , तो आज उन खूबियों को इक्छाओ को ही ख़तम कर दिया । ये सही नहीं हैं , आप बड़े हो गए हैं, पर मन तो अभी भी बच्चा हैं , वह तो पहले के जैसे हसना चाहता हैं, खेलना चाहता हैं , इसलिए अपने पैशन को पूरा करो, ये ना सोचो की अब तो बहुत देर हो गयी । मानसिक रूप से मजबूत होना हैं, तो अपने मन का काम करे, और अपने आप को खुश रखे ।

जीवन पर्यन्त मैडिटेशन ( Meditation ) करें

मैडिटेशन ( Meditation ) एक दवा हैं, यदि आप मानसिक रूप से हेअल्थी रहना चाहते हैं, तो मैडिटेशन करना स्टार्ट करें। अगर आपको नहीं पता हैं की मैडिटेशन कैसे करें, तो आप यूट्यूब पर जाकर देख सकते हैं या किसी एक्सपेरस्ट की सलाह और मदद ले सकते हैं ।

मैडिटेशन ( Meditation ) करने से मन शांत रहेगा, आपके मन में अच्छे विचार आएंगे, आपका decision making अच्छा होगा , आप लाइफ के प्रति पॉजिटिव सोच रखने में सफल होंगे और भी बहुत सारे लाभ आप मैडिटेशन के द्वारा उठा सकते हैं।

Share This :