How to share your feelings, जब आपको नहीं पता हो की किसी से कैसे बात करनी हैं, क्या बात करनी हैं, करू की ना करू और ना जाने कितने सवाल आपके मन में पहले से चल रहे हो । अपनी feelings share करना बहुत जरुरी हैं नहीं तो अंदर ही अंदर आप परेशान रहेंगे।

मन में ना जाने कितने तूफ़ान रोज उठते हैं और फिर अपने आप थोड़े समय में शांत हो जाते हैं , पर कभी कभी कोई बात इतनी ज्यादा परेशान कर देती हैं की लगता हैं की अब अपने किसी से बात कर ली जाए।

दुनिया में हर कोई अलग – अलग हैं। जैसे सबका रंग रूप, बोली- बानी सब अलग हैं, वैसे ही सबका स्वभाव भी अलग- अलग होता हैं । देखा जाए तो यहाँ सबका nature different हैं कोई अपनी हर बात को बिना डरे सबसे share कर देता हैं और कोई अपनी छोटी सी बात या feelings को भी किसी से share नहीं कर पाता हैं ।

कुछ लोग ऐसे भी जो, हंसी मजाक की तो सारी बात करेंगे पर जो उनके दिल में हैं वो वह किसी से नहीं share कर पाते। इसलिए किसी को देखकर या सुनकर आप अंदाजा भी नहीं लगा सकते हैं, वह इंसान आपसे अपनी feelings शेयर कर पा रहा हैं या नहीं।

दुनिया में हर कोई एक दूसरे से जुड़ा हैं , पर फिर भी बहुत सी बातें होती हैं जिसे आप खुलकर किसी से नहीं कह पाते हैं क्योंकि कभी -कभी feelings शेयर करने से दिक्कत भी हो जाती हैं। पर मेरे हिसाब से दुनिया में कोई तो एक व्यक्ति होना चाहिए जिससे आप अपने मन की बात कह सके। जिसके सामने आप अपनी जिंदगी की किताब का हर पन्ना खोल सके और पढ़ सके , फिर चाहे वह माँ हो, पिता हो, पति हो, भाई -बहिन या दोस्त हो।

जो की आपकी परछाई के समान हो जिसे आप बिना सोचे समझे, बिना डरे, अपने मन की हर बात कर सके। हालांकि ऐसे लोग सबकी जिंदगी में हो जरुरी नहीं हैं।

Feelings एक emotion हैं, एक thought हैं जो हर व्यक्ति के मन में आता और जाता हैं। Feelings समय के साथ change भी हो जाती हैं । Feelings सामने वाले के व्यवहार पर निर्भर करती हैं , कभी आप को किसी पर बहुत प्यार आएगा और फिर गुस्सा भी , मतलब हमेशा Feelings एक जैसी रहे जरुरी नहीं ।

How to share your feelings

Tips to share your feelings


Feelings को share करना इतना मुश्किल नहीं हैं, जितना हम सोच लेते हैं और यदि अगर आप भी अपनी feelings को share नहीं कर पाते हैं, तो नीचे लिखी गयी tips को पढ़े।

बात जरूर करें

ज्यादातर लोग इस लिए भी अपनी feelings share नहीं कर पाते हैं , क्योंकि उनको समय नहीं मिलता हैं। जब बात करने का मन हुआ तब बात हो नहीं पायी और उसके बाद आपने भी सोचा अब बताकर क्या फायदा होगा।

इसलिए आपस में बातचीत बहुत जरुरी हैं, जिससे आपकी feelings भी शेयर हो जाएंगी और सामने वाले की दिमाग में जो चल रहा हैं, वह भी शांत हो जाएगा ।

जब भी मौका मिले बात कर ले , बाद में करेंगे या आराम से करेंगे ऐसा ना सोचे। कभी -कभी life में ज्यादा समय नहीं मिलता हैं।

संकोची स्वभाव के ना बने

किसी ने नहीं सुना या आप को time नहीं मिला बात करने का, तो दोबारा नहीं कहना हैं , ऐसा ना सोचे बल्कि जब time मिले तब अपनी बात को कहे।

ये बात भी सच है , जिसे अपनी feelings शेयर करनी हैं , शुरवात तो उसी को ही करनी होगी।

ये ना सोचे की सामने वाला क्या कहेगा या क्या सोचेगा

अपनी feelings को बिना share किये ही मन में सोच लेना की वह क्या कहेगा या क्या सोचेगा, ये भी गलत हैं। ज्यादा सोचने वाले भी अपनी feelings को share नहीं कर पाते हैं। अपनी बात कहिये फिर जो होगा देखा जाएगा।

ठीक हैं थोड़ा सोच समझकर शेयर करे , पर इतना भी ना सोचे की बहुत देर हो जाए।

आप सही हैं , ऐसा विश्वास करें

अपनी बात को पूरे विश्वास के साथ share करे। यदि आपको अपने आप पर ही विश्वास नहीं होगा तो आप अपनी बात और feelings पर भी ज्यादा टाइम तक कायम नहीं रह पाएंगे।

आपकी फीलिंग एक विचार हैं , ना की स्टेटमेंट

हमे ये नहीं सोचना चाहिए की feeling share करने से कुछ गलत होगा। Feelings एक भाव हैं , जो की आपके मन में हैं, उसे सबसे share करने में क्या परेशानी हैं , यदि आपकी feelings गलत होगी तो सामने वाला आपको सही राह भी दिखायेगा और यदि सही होगी तो आपके हित में बोलेगा भी , ऐसा विश्वास रखे ।

ज्यादा बातों को दबाना या छुपाना भी कभी -कभी बड़ी समस्या का कारण बन सकता हैं। पर ध्यान रहे अपनी feelings को किसी अपने से share करे, जो की विश्वास के लायक हैं , किसी भी ऐसे इंसान से अपनी feelings share ना करें जो समय आने पर आपका बुरा कर दे क्योंकि दुनिया में सब अच्छे लोग भी नहीं हैं। ऐसे लोग आपके घर में या कही भी हो सकते हैं।

खुलकर बात करना सीखे

सच बोले, जिससे आप अपनी बात को सबके सामने खुलकर रख सके।

Life में ऐसा कोई काम करें ही ना जिससे आपको किसी के सामने बात करने में या कुछ भी कहने में संकोच लगे। जो दिल में हो वही जुबा पर रखे , दोहरी जिंदगी जीने की कोई जरुरत नहीं हैं। जो जैसा हैं उसे वैसा ही accept करें , कोई आपके लिए बदलेगा या आप किसी के लिए बदलेगें , ऐसी इच्छा रखना ही क्यों।

Share This :