महा शिवरात्रि (Maha Shivratri) या भगवान शिव की महान रात सबसे महत्वपूर्ण पूजा या त्यौहार हैं। इस दिन दुनिया भर के हिन्दू धर्म के लोग इस दिन शिव जी की आराधना करते हैं। इस दिन भगवान शिव के भक्त उनका आशीर्वाद लेते हैं और उनकी पूजा करते हैं । लोग व्रत या उपवास रखते हैं और शिव मंदिर जाकर या घर के मंदिर में ही पूजा करते हैं।

इस दिन का अपना एक अलग ही महत्व हैं और शिव प्रेमियों के लिए ये दिन बहुत ही स्पेशल हैं। लोग शिव जय कारे लगाते हैं, शिव गीत और शिव भजन गाते हैं, ढोल, नगाड़े से लेकर डिजिटल प्लेटफार्म का भी लोग भरपूर प्रयोग करते हैं।

शिवरात्रि पर, भक्त गंगा या आसपास के किसी भी नदी में पवित्र स्नान करते हैं और देश भर के शिव मंदिरों में भगवान शिव के लिए दूध, फल, मिठाई और अन्य प्रसाद के साथ हजारों भक्त दिखाई देते हैं। भगवान शिव को कई नामों से जाना जाता है। उनमें से कुछ महादेव, पशुपति, भैरव, विश्वनाथ, भोले नाथ, शंभू और शंकर, डमरूवाले, कैलाशपति औरो अनंत नाम हैं।

Maha Shivratri
Maha Shivratri

शिवरात्रि को मनाये जाने के पीछे की कहानी

शिवरात्रि को मनाये जाने के पीछे बहुत सी कथाये प्रचलित हैं, कहते हैं इस दिन भगवान शिव जी का और पार्वती जी का विवाह और दोनों का मिलन हुआ था। इस दिन भगवान दुनिया में ६४ शिवलिंग के रूप में प्रकट हुए थे उसमे से लोग सिर्फ १२ शिवलिंगो का पता लगा पाए हैं जिन्हे हम १२ ज्योत्रिलिंग के नाम से जानते हैं।

शिवरात्रि पूजा तिथि 2021

महाशिवरात्रि का पावन पर्व फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मनाई जाती हैं। फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि का प्रारम्भ 11 मार्च दिन गुरुवार को दोपहर 02 बजकर 39 मिनट पर हो रहा है, जिसका समापन 12 मार्च दिन शुक्रवार को दोपहर 03 बजकर 02 मिनट पर हो रहा है। महाशिवरात्रि में रात्रि की तिथि की मान्यता है, ऐसे में इस वर्ष महाशिवरात्रि 11 मार्च को मनाया जाएगा। महाशिवरात्रि का व्रत भी 11 मार्च को ही रखा जाएगा।

निशिता काल पूजा का समय: 11 मार्च, रात 12 बजकर 06 मिनट से 12 बजकर 55 मिनट तक।
रात्रि प्रथम प्रहर पूजा समय: 11 मार्च, शाम 06 बजकर 27 मिनट से 09 बजकर 29 मिनट तक।
रात्रि द्वितीय प्रहर पूजा समय: 11 मार्च, रात 9 बजकर 29 मिनट से 12 बजकर 31 मिनट तक।
रात्रि तृतीय प्रहर पूजा समय: 11 मार्च, 12 बजकर 31 मिनट से 12 मार्च को तड़के 03 बजकर 32 मिनट तक। रात्रि चतुर्थ प्रहर पूजा समय: 12 मार्च के प्रात:काल 03 बजकर 32 मिनट से सुबह 06 बजकर 34 मिनट तक।

शिवरात्रि 2021 पारण समय

जो लोग महाशिवरात्रि का व्रत रखेंगे, उन लोगों को 12 मार्च दिन शुक्रवार की सुबह 06 बजकर 34 मिनट से दोपहर 03 बजकर 02 मिनट के मध्य पारण कर लेना चाहिए। पारण करके व्रत को पूरा करना महत्वपूर्ण माना जाता है। पारण से ही व्रत पूर्ण होता है।

पूजा सामग्री

लकड़ी की चौकी (शिव लिंग या भगवान शिव की धातु की मूर्ति रखने का मंच)
शिव लिंग या पंच धतु से बनी मूर्ति या भगवान शिव की मूर्ति /
एक तेल का दीपक
दीपक के लिए तिल का तेल या सरसों का तेल या घी
माचिस की तीली
रुई का फाहा
आरती के लिए कपूर
गंधम (इत्र )
पुष्पम (धतूरा के फूल, सफेद मुकुट के फूल, गुलाब, रजनीगंधा या कोई अन्य फूल)। आप इन फूलों में से किसी एक या सभी की पेशकश कर सकते हैं।
धूप या अगरबत्ती
नैवेद्य (बिना प्याज और लहसुन के शाकाहारी भोजन की तैयारी)
फल (फल या केले की पांच या अधिक किस्में)। आप एक फल भी दे सकते हैं।
विल्व (बेल पत्र)। यह सबसे महत्वपूर्ण प्रसादों में से एक है।
सूखे मेवे – सूखे खजूर और अन्य सूखे मेवे (वैकल्पिक)
तांबूलम – पान, सुपारी, दक्षिणा और एक भूरा नारियल के साथ भूसी दो में टूट जाती है।
चंदन का लेप
अक्षत (हल्दी के साथ मिश्रित कच्चा चावल)
विभूति (पवित्र राख)
पूजा और अचमनिया करने के लिए पंच पात्र (चांदी, पीतल या तांबा)। स्टील के प्रयोग से बचे।
सभी प्रसाद की व्यवस्था के लिए ट्रे
जनेऊ (पवित्र धागा)
कलावा
गुलाल
कपड़े के तीन ताजा अप्रयुक्त टुकड़े (सफेद) – एक चौकी को ढंकने के लिए, एक भगवान शिव को वस्त्र अर्पित करने के लिए और अंतिम अभिषेक के बाद मूर्ति को पोंछने के लिए।
पंचामृत इसके लिए, आपको एक केला, शहद, मिश्री, चीनी, घी, किशमिश इत्यादि।
अभिषेक के लिए – गंगाजल, जल, शहद, घी, दूध और दही। आप अभिषेक तभी कर सकते हैं जब आप शिव लिंग या भगवान शिव की मूर्ति का उपयोग कर रहे हों)।
पूजा क्षेत्र की सफाई के लिए गंगाजल
विभिन्न अनुष्ठानों के लिए पानी

Share This :