लाइफ में सब कुछ हमारे हिसाब से हो ये जरुरी हैं हैं, हर व्यक्ति को Ups and Downs of Life का अनुभव करना ही पड़ता हैं।लाइफ के उतार- चढाव में हम कभी कभी किसी के चेहरे पर एक स्माइल लाने ले लिए हमे अपनी आँखों में आंसू लाने पड़ते हैं । देखा जाए हर कोई कही ना कही अंदर से दुखी और परेशान हैं , पर कहता कोई नहीं हैं क्योंकि हम सब के दिमाग ये बात घर कर गयी हैं की किसी से अपने मन की बात क्यों कहना लोग हँसेंगे।

देखा जाए जिंदगी ऐसी ही चलती हैं , इससे ज्यादा सोचेंगे तो ज्यादा परेशान होंगे।

लाइफ के उतार- चढाव को समझने के लिए नीचे विस्तार से पढ़े और विचार करें

जितने लोग हैं उतनी बातें , हर कोई अपने आप को सही सिद्ध करने में लगा हैं, और जब कुछ गलती होगी तो सारी गलती आप पर डाल दी जायेगी। किसको सुनो और किसको ना सुने, सब तो समझदार हैं, और सब ना समझदार , जिंदगी ऐसी ही उलझनों में उलझी हैं, अगर एक की बात मानी और एक की नहीं , तो जिसकी बात सही होगी वह आपसे बोलेगा मैंने तो कहा था, ऐसा होगा ।

जिंदगी को आप जितना सरल बनाना चाहते हैं , वह कभी – कभी उतनी ही उलझ जाती हैं । याद रखना लाइफ में सब अपने अपने हिसाब से आपको लेक्चर देंगे , कोई कुछ बताएगा तो कोई कुछ समझायेगा ।

लाइफ में मिलजुल कर रहो, लाइफ जितनी बड़ी नहीं हैं जितना बड़ा लोगो का ईगो हैं। उसने कॉल नहीं किया तो मैं क्यों करू, वह मेरे घर नहीं आयी तो मैं क्यों जाऊं, वह कभी पहले नहीं हस्ती तो मैं क्यों हसू वाह रे वाह !! जिंदगी और वाह रे वाह !! दुनिया के लोग , यही करते – करते चले जाओगे यहाँ से । ज्यादा टाइम नहीं हैं , जितना हैं उसको एन्जॉय करो, क्यों गिले शिकवे में अपनी बची हुयी जिंदगी को ख़तम करना चाहते हो।

लाइफ में बहुत सी कस मस कस हैं, जब ज्यादा हंसोगे तो लोग कहेंगे बहुत हंसती हैं और जब कम हंसोगे तो लोग कहेंगे मुँह चुप्पी हैं। जब ज्यादा बात करोगे तो लोग कहेंगे बहुत बात करती हैं और जब कम बात करोगे तो लोग कहेंगे की घमंडी हैं । मतलब लोगो के पास हर बात के दो मतलब हैं, उनमे से वह आपके ऊपर वही अप्लाई करेंगे जो नेगेटिव होगा । जब आप किसी की तारीफ करेंगे तो कोई ना कोई उस शख्स में कोई ना कोई एक कमी निकाल कर पूरा माहौल ही चेंज कर देगा। मतलब आज लोग खुश रहना तो चाहते हैं, पर ख़ुशी का माहौल ना रहे इस बात की पूरी कोशिश भी करते हैं ।

लाइफ संघर्ष हैं , और यहाँ जीना और मरना दोनों अपने हाथ में नहीं हैं , जब तक आपका रोल यहाँ हैं, तब तक अपना अभिनय कीजिये और फिर चले जाईये। अभिनय से याद आया की यहाँ हर कोई अभिनय करते – करते अभिनय करने में इतना माहिर हो चुका हैं, फिर रोल चाहे विलन का हो या हीरो का , दोनों की पात्रों को अच्छे से लोग निभा रहे हैं ।

जिंदगी में किसी पर विश्वास करना, पर अँधा विश्वास कभी नहीं करना, क्योंकि जिस पर सबसे ज्यादा विश्वास होता हैं वही आपको सबसे पहले धोखा देगा । समय बदल रहा हैं, और लोगो की सोच भी , जहा पहले के समय में लोग इंसान को महत्व देते हैं, अब इंसान से ज्यादा पैसे को महत्व देते हैं, इसलिए जब आपसे किसी की जरुरत पड़ेगी तो वह इंसान खुद पे खुद आपको ढूढ़ता हुआ आपके पास आ जाएगा, आपको कही जाने की जरुरत नहीं हैं ।

मेरा मानना हैं, जो सब कर रहे हैं, वो आप ना करे, किसी को यूज करने के हिसाब से ना रिश्ते जोड़े और ना तोड़े , जो जैसा करेंगा वैसा ही भरेगा। सब गलत करे, तो हम भी करेंगे , इस सोच को बढ़ावा ना दे, अक्सर कुछ लोग बच्चो को सिखाते हैं की उसने मारा तो तुम भी मारो, वह तुम्हे धक्का दे तुम भी उसके साथ वैसा ही करो , ये भी कही ना कही आप बच्चे को बचपन से गलत बात के लिए उकसा रहे हैं, और जब वही बात वह बड़े होकर करेगा तो आपको बुरा लगेगा , इसलिए सही रास्ता ही जीवन के लिए मोक्ष हैं, थोड़ा कठिन हैं पर आपको आंतरिक सुकून देगा ।

जिंदगी की किताब के जितने खूबसूरत पन्ने हैं, उतने ही ख़राब पन्ने भी होते हैं, जिनमे दुःख होता है, परेशानी होती हैं, बेचैनी होती हैं , यही जिंदगी हैं, बचपन में जब हम छोटे होते हैं, और हमे दुनिया दारी और दुनिया की समस्याओ के बारे में पता नहीं होता हैं, उस समय हमे जिंदगी में सिर्फ एन्जॉय ही दिखता हैं, पर धीरे – धीरे जब जिंदगी की समझ आती हैं, तभी से एक्चुअल लाइफ स्टार्ट हो जाती हैं ।

लाइफ में सुख दुःख और उतार – चढाव तो आएंगे, यही जिंदगी हैं । सबके साथ एक जैसा ही हैं, सब कुछ , किसी ने पहले दुःख देख लिया तो किसी ने बाद में , ऐसा ही होता हैं यहाँ , पूर्ण रूप से ना कोई सुखी हैं और ना ही कोई होगा और ये भी हैं की जो लोग थोड़ा ज्यादा खुश हैं , या उन्होंने अभी तक जीवन में ज्यादा दुःख देखे ही नहीं , ऐसे लोग अर्रोगंट हो जाते हैं , शायद इसलिए भगवान् ने सब की जिंदगी में ये उतार -चढाव रखे हैं ।

लाइफ में सबसे बड़ी बात हैं , आत्म निर्भर होना, देखा जाए तो वह लोग ज्यादा खुश हैं, जो आत्म निर्भर हैं, उन्हें अपनी जिंदगी को कैसे चलाना हैं, बेहतर पता हैं । इंसान में दुःख और सुख दोनों को बैलेंस करना आता हैं, और कही ना कही समय के साथ हम बड़े से बड़ा दर्द भूल जाते हैं, या भूलने का दिखावा करते हैं, ये बात अभी असमंजस में हैं । पर ये भी एक बड़ा सच हैं, की लोग उनके साथ ज्यादा हैं, जो खुश हैं, सफल हैं, दुखी और असफल लोगो से सभी लोग किनारा कर लेते हैं, फिर वह चाहे आपके सगे-सम्बन्धी ही क्यों ना हो , इसलिए शायद अब हर कोई अपने को खुश और सफल होने का दिखावा करता हैं।

आज जो दिखता है वह बिकता हैं वाला सिद्धांत लाइफ पर भी लागू होता हैं, की आप अकेले में चाहे जितने दुखी और परेशान हो पर लोगो के सामने जाते ही वह आपको क्लोज अप वाली मुस्कान तो दिखानी ही पड़ेगी , यही जिंदगी की सच्चाई हैं, जिससे आज हर कोई रूबरू हैं और जो नहीं हैं वह समय के साथ रूबरू हो जाएगा।

हम जो कुछ भी करते हैं वह अपने मन के हिसाब से और अपनों के मन के हिसाब से भी करते हैं। जब भी हम रोते या हस्ते हैं, सब कुछ हमारे मन पर निर्भर करता हैं , उस समय जैसा मन फील कर रहा होता हैं हम वैसा ही करने लगते हैं । कभी कभी हर कोई अपनी लाइफ के बारे में सोच कर घबरा जाता हैं, की कैसे होगा, क्या होगा , अभी तो और मेहनत करनी होगी, मंजिल मिलेगी या नहीं , और ना जाने कितने सवाल एकाएक हमारे मन और मस्तिस्क दोनों में चलने लगते हैं , ऐसे में बस शांत होकर बैठ जाओ, या किसी से बातें करो, अपने मन का हाल कहो, तभी आपको थोड़ा बेहतर महसूस होगा।

हम सब की जिंदगी कही ना कही भावो से भरी हैं इसलिए हम सब पल में गुस्सा हो जाते हैं, और अगले ही पल में खुश भी हो जाते हैं। कभी छोटी सी बात पर भी रो देंगे और कभी किसी को रुला भी देंगे। मन के अंदर से जो कुछ भी फील करते हैं, वही अपने आस पास वालो को दे देते हैं , सचमुच कभी- कभी ऐसा लगता हैं, जैसे मन के अंदर भी एक अलग दुनिया हैं, जो हमे अपने हिसाब से हसाती और रुलाती हैं।

लाइफ को जीना हैं तो हस के जियो, क्योंकि रोने के लिए हजारों बहाने होंगे आपके पास पर हसने के लिए शायद एक भी नहीं। इस जिंदगी में सबको अपनी अपनी किस्मत और मेहनत के हिसाब से खुशिया मिलती हैं। हम जितना इस जिंदगी से पाते हैं, हमे खोना भी उतना ही पड़ता हैं, ये बात अलग हैं, की हम सब का मन एक बच्चे के समान हैं की जरा सा मौका मिला तो फिर मुस्करा लिए , शायद कही ना कही हम सब को जिंदगी की परिभाषा पता चल चुकी हैं, और हम सबने अपने- अपने हिसाब से अपनी जिंदगी को डील करना सीख लिए हैं ।

Share This :