Why we should fight for our rights क्योंकि जो व्यक्ति अति से ज्यादा सीधा होता हैं, या फिर जिसे अपनी बात कहनी नहीं आती हैं, ऐसे लोग जीवन में सदैव दुखी रहते हैं क्योंकि यदि ये खुश भी रहना चाहे तो इनको कोई खुश नहीं रहने देता हैं। सही बात तो ये हैं की लड़ाई जिसकी होती हैं उसे ही लड़नी पड़ती हैं, और यदि आपको अपने लिए खड़ा होना नहीं आता हैं तो आप सदैव परेशान रहेंगे। हम सब के आस -पास अक्सर ऐसे लोग होते हैं जो बात -बात पर दबाते हैं, आप सही हो तब और गलत हो तब भी, मतलब गलत तो आप ही हैं, ऐसा आपको फील करवाएंगे।

सबसे पहले तो आप को ये समझना होगा की ना ही आपको किसी को बिना वजह परेशान करना हैं और ना की आपको किसी को इतनी इजाजत देनी हैं की कोई आपको परेशान कर पाए। आज लोगो को इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता हैं की आप उनके बारे में क्या सोचते हैं, आप अच्छा सोचे या बुरा सोचे, उनको किसी चीज से मतलब नहीं हैं, उन्हें अगर किसी चीज से मतलब हैं तो वह हैं उनकी खुद की ख़ुशी और उन्हें दुनिया में कुछ नहीं दिखता हैं।

Why we should fight for our rights
Why we should fight for our rights

किसी को दुःख देना, किसी को परेशान करना, किसी की आँख में आंसू देना, दुनिया का सबसे बड़ा अपराध हैं, जिसे इंसान तो इंसान ईश्वर भी माफ़ नहीं करता हैं।

आज हर जगह हर चीज की होड़ लगी रहती हैं, लोग एक दूसरे को नीचे दिखाने में लगे रहते हैं, लोग पीठ पीछे तो मजाक बनाते ही हैं, बल्कि सामने भी मजाक बनाने से नहीं डरते हैं। सचमुच समय बदल चुका हैं पर लोगो की सोच वही हैं, पहले के समय की ही तरह लोग एक दूसरे को दबाना चाहते हैं और ऐसे में जो बोल दे, वह बुरा हैं , ऐसा लोगो का मानना हैं। अरे यार अपने हक़ की लड़ाई में क्या गलत हैं, और एक बात ये भी हैं की बिना लड़े कोई देता भी नहीं, ऐसे में कोई करे भी तो क्या करे।

अपने आप से प्यार करो, अपने आप का रेस्पेक्ट करो, की कोई भी तुम्हे हंस ना पाए, कोई तुम्हारी इंसल्ट ना कर पाए।

एक बात दिमाग में बिठा लो, किसी का हक़ मारो ना और अपना हक़ छोड़ो भी ना, यही जीवन हैं। यहाँ जो एक बार दब गया उसे सभी बेवकूफ बनाते हैं, इसलिए ज्यादा ना बोलो, पर जहा जरुरत हो वहा मुँह भी खोलो, क्योंकि ना बोल कर आप ही लोगो को मौका दे रहे हैं और ये भी हैं की बाद में ज्यादा लड़ाई हो इससे पहले ही थोड़ी तू तू मै मै कर ले।

आप अपने अधिकारों के साथ -साथ अपने कर्तव्यों को भी जाने, जिससे आप अपने जीवन में बैलेंस बना सके। ज्यादातर वही लोग शिकार होते हैं जिन्हे अपने अधिकारों का ज्ञान ही नहीं हैं। शिक्षा एक बहुत बड़ा शस्त्र है, इसलिए शिक्षित बनिए जिससे आप अपना और अपने अपनों का ध्यान रख सके। कोई भी व्यक्ति चोरी तभी करता हैं जब उसे मौका मिलता हैं इसलिए आप अपने आस -पास एक ऐसी दीवार बनाइये की आपसे कोई भी कुछ चोरी ना कर पाए।

आज वह लोग दबते हैं, जिनमे हिम्मत नहीं हैं, साहस नहीं हैं, और ये बात तो आपको भी पता हैं की किसी व्यक्ति में जितना डर होता हैं उतनी ही हिम्मत भी होती हैं, बस आपको क्या चीज कब और कहा यूज करनी हैं, ये आपको पता होना चाहिए।

सबसे पहले खुद के लिए खड़े हो, और फिर दूसरों के लिए खड़े हो।

जिंदगी में एक सिद्धांत फॉलो करो, जियो और जीने दो, खुश रहो और रहने दो, और जब तक किसी के पीछे ना पड़ो जब तक की वह आपसे पंगा ना ले।

अपने आप को कर बुलंद इतना की खुदा भी आपसे पूछे बता तेरी मर्जी क्या हैं।

Be happy

Share This :